Setu Bharatam : नई उम्मीदों का भविष्य दर्शाती सेतु भारतम योजना

आज हमारे देश में बढ़ती आबादी और वाहनों कि अधिक संख्या ने सरकार को चुनौती दी है सड़कों पर वाहनों का अंबार देखने लायक होता है सरकार का मानना है इससे निपटा जा सकता है नए राष्ट्रीय राजमार्ग बनाकर और पुराने की मरम्मत करके ।

दूसरी तरफ रेलवे क्रासिंग पर होने वाली दुर्घटना ने बहुत पहले से ही चिंता बढ़ा रखी थी ऐसे में सरकार ने इस योजना की शुरुआत कर परेशानी को खत्म करने का फैसला किया है आइए जानते है इस योजना से जुड़ी बातें

क्या है सेतु भारतम योजना

इस योजना कि शुरुआत 4 मार्च 2016 को हुई थी । इस योजना के तहत हिन्दुस्तान के सभी राजमार्गो में पुल बनाना है जिससे तमाम लोगों को परेशानियों का सामना न करना पड़े । लबोलुआब अगर समझे तो रेलवे क्रासिंग की वजह से आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है रेववे क्रासिंग पुल बनने के बाद यह परेशानी हल हो जाएगी ।

प्रधानमंत्री द्वारा शुरू की गई इस योजना के तहत लक्ष्य था कि इसे 2019 तक सभी राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुलों का निर्माण पूरा हो जाए । लेकिन अभी भी इसे अंतिम रूप नहीं दिया गया । बहुत से ऐसे राजमार्ग और पुल बाकी है जिसे पूरा करना है । पीएम ने इस योजना का शुभारम्भ 50 हजार करोड़ रुपए से किया था । केंद्र सरकार का मकसद सही दिशा में बड़ा परिवर्तन करना है ।

पुराने पुल बनेंगे नए

इस योजना का मकसद है कि राजमार्ग और पुल तो नए बनेंगे ही साथ ही पुराने पुल का निर्माण भी नई तकनीक से होगा । जिससे रेलवे क्रासिंग पर होने वाली दुर्घटनाएं कम हो जाएंगी । उम्मीद है कि हादसे ना के बराबर हो जायेंगे ।

इस योजना के तहत सरकार का मकसद 208 पुलों को बनाना था जिसकी लागत 20,800 करोड़ है । पुराने पुलों को तोड़कर उनका चौड़ीकरण करके नया बनाया जाएगा।

क्या है सेतु भारतम योजना का उद्देश्य

  • राष्ट्रव्यापी फोकस करना
  • रेलवे ट्रैक पुल बनाना
  • पुराने को तोड़कर नया मजबूत बनाना
  • अंतरिक्ष प्रोद्योगिकी का उपयोग
  • ब्रिज की पूरी मैपिंग के तहत निर्माण
  • यात्रा मे आसानी होगी लोग सुरक्षित महसूस करेंगे

Leave a Comment