Labour Law : अब दो नहीं तीन दिन करिए आराम , नए श्रम कानून में मिलेगी तीन दिन कि छुट्टी

 

श्रम कानून – एक वक्त था जब अंग्रेज हम भारतीयों से हफ्ते में सातों दिन बड़ी बेरहमी से काम करवाते थे और एक दिन कि भी छुट्टी नसीब नहीं होती थी मतलब आराम भूल जाइए । फिर  1890 में बड़ी कोशिशों के बाद रविवार की छुट्टी के लिए सहमति बनी । खैर ये तो इतिहास की बात थी जो आपको बता दी । अब भविष्य की बात करते है आज के समय में मेहनत करने वाले लोग पहले जैसे नहीं रहे । और आज छुट्टी किसे नहीं चाहिए फिर वह कोई सरकारी कर्मचारी हो या प्राईवेट हो छुट्टी का सबको बेसब्री से इंतजार रहता है कुछ लोग अपना अवकाश बचाकर रखते है ताकि जरूरत के समय ले सकें । आज हम आपको छुट्टी से जुड़ी एक ऐसी खबर बताने जा रहे है जो आपके कम की है

show content List

  1. हो सकता है छुट्टी के नियमों में बदलाव | There may be a change in the rules of leave
  2. सप्ताह में सिर्फ चार दिन काम | work only four days week  
  3. पांच घंटे काम 30 मिनट आराम | five hours work 30 minutes rest

हो सकता है छुट्टी के नियमों में बदलाव | There may be a change in the rules of leave

केंद्र सरकार काफी समय से इस  जुगत में लगी है कि देश की सरकारी संस्था हो या प्राईवेट संस्था काम करने वाले कर्मचारियों को थोड़ा आराम और छुट्टी में इजाफा किया जाए । जिससे कर्मचारी आराम से कार्य कर सके । बहुत जल्द कर्मचारियों के काम के घंटे और दिनों में राहत मिल सकती है हफ़्ते में 5 दिन कि जगह 4 दिन कि नौकरी करनी होगी साथ ही दो दिन कि जगह तीन दिन कि छुट्टी रहेगी । देश में बन रहे नए श्रम कानून में कुछ ऐसा ही प्रावधान है

सप्ताह में सिर्फ चार दिन काम | work only four days week

आपको बता दें कि नए श्रम कानून के नियमों में  एक विकल्प यह भी रखा जाएगा कि कम्पनी और कर्मचारी अपनी आपसी सहमति से ले सकते है की नए नियमों के अंतर्गत सरकार के काम के घंटे को बढ़ाकर 12 घंटे शामिल किया गया है । काम करने के लिए घंटो कि समय सीमा हफ़्ते के हिसाब से 48 रखी गई है मतलब साफ है कि काम के दिन घत सकते है ।

पांच घंटे काम 30 मिनट आराम | five hours work 30 minutes rest

सरकार ने नए ड्राफ्ट कानून में कामकाज के अधिकतम घंटो में बढ़ोत्तरी कर 12 घंटे काम करने का प्रस्ताव रखा है मतलब एक दिन में कर्मचारी को अब 12 घंटे काम करना पड़ेगा । ड्राफ्ट मे 15 मिनट से 30 मिनट के बीच अतरिक्त कामकाज को भी 30 मिनट गिनकर ओवरटाइम में शामिल करने का प्रावधान रखा है मौजूदा समय के नियमों में 30 मिनट से कम समय को ओवरटाइम के योग्य नहीं माना जाता है ड्राफ्ट में साफ किया गया है कि कोई भी कर्मचारी लगातार पांच घंटे काम नहीं कर सकता । कर्मचारी हर पांच घंटे में आधा घंटे रेस्ट ले सकेगा ।

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment