Omicron Variant – ओमिक्रोन वेरिएंट की लहर से खुद कैसे बचाएं

Omicron Variant Symptoms- मानव जीवन की भागदौड़ जिंदगी में नई महामारी कहां पनप रही है इसका अंदाजा तो आम आदमी को होना बहुत मुश्किल ही है मगर अदृश्य और जानलेवा महामारी की आहट विज्ञान भी न लगा पाए तो सोचने पर हम मजबूर हो जाते है । दुनिया ने कई तरह की महामारी का सामना किया है वहीं वर्तमान समय में करोना वायरस के तीसरे रूप यानी ओमिक्रोन महामारी ने कई मुल्कों को चपेट में लेना शुरू कर दिया है दुनिया के तमाम मुल्कों मे दहशत का डर पनपने लगा है क्योंकि उनको पता है कि महामारी अगर आई है फिर चाहे उसने नाम ही क्यों न बदला हो । एक बड़ी संख्या में शिकार करके ही जाएगी ।

आपको बता दे की इस साल नवम्बर के मध्य में दक्षिण अफ्रीका के बोत्सवाना शहर में वैज्ञानिक नए तरीके के कोविड़ वायरस के सैंपल देख रहे थे । वैज्ञानिक परीक्षण के दौरान हैरान भी दिखे । उन्हे वायरस के स्पाइक प्रोटीन मे कुछ ऐसे म्यूटेशन मिले जो इससे पहले कभी नहीं देखे गए थे । वैज्ञानिकों को आभास हो गया कि यह कुछ नया और गम्भीर वायरस हो सकता है और यह बात सच साबित हुई ।

परीक्षण के तीन हफ्ते में ही नए वेरिएंट( Variant) ने 70 से अधिक देशों साथ ही अमेरिका के 15 राज्यों में कहर बरपाना शुरू कर दिया । 57 अफ्रीकी देश तो नए वेरिएंट की गिरफ्त में आ चुके है। और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चिंता जाहिर की । इस वेरिएंट को नया नाम विश्व स्वास्थ्य संगठन ने B.1.1.529 दिया । मतलब ओमिक्रोन । तो आइए आपको वो सभी जरूरी बातों से रूबरू कराते है । साथ इस नए वेरिएंट से जैसे लड़ेंगे हम ये भी जानेंगे ।

म्यूटेशन क्यों और क्या है ये

नाम सुनकर अजीब लग रहा होगा । तो जाहिर सी बात है कि समझ में भी नहीं आया होगा । तमाम जरूरी बातों को दरकिनार रखते हुए सबसे पहले आपको म्यूटेशन( Corona Virus Mutant) के बारे में बताते है । आखिर म्यूटेशन बला क्या है । दरअसल जब कोई व्यक्ति इस नए वायरस मतलब ओमिक्रोन से संक्रमित हो जाता है और फैलने के लिए नकल बनाता है यह उसके लिए बिल्कुल न रुकने वाली प्रक्रिया है इस दौरान वो कभी कभी ऐसी समस्या पैदा कर देता है मतलब वेरिएंट फैलने के बाद अपना रूप बदलता है यही म्यूटेशन है जब वायरस में कई सारे म्यूटेशन हो जाते है और वो पहले से अलग दिखने लगे ।

तो उसे नया वेरिएंट करते है । चलिए थोड़ा पीछे चलते है । चीन के वुहान से सबसे पहले करोना वायरस निकला , कुछ समय बाद नया वेरिएंट सामने आया जिसका नाम अल्फा था । इसके बाद डेल्टा और अब ओमिक्रोन । डॉक्टर के मुताबिक आप इस वेरिएंट से बच सकते है कैसे आगे जानते है

बचाव का प्रयास और बेहतरी का लंबा इंतजार

Omicron Variant Precautions – इसमें कोई शक नहीं नहीं है कि हम अब ऐसे मोड़ पर खड़े है कि नई महामारी का सामना कर सकते है उससे बच भी सकते है लेकिन ये दावा नहीं कर सकते की उस महामारी को जड़ से खत्म कर दे । करोना वायरस का पहला मामला करीब 18 महीने पहले मिला था तब से लेकर अब तक इसमें कई म्यूटेशन आ चुके है मतलब बदलाव । अल्फा से देखता अधिक खतरनाक निकला और अब ओमिक्रोन के तबाही पर सबकी निगाहें टिकी है ।

बचाव के तरीके वही है जो पहले थे दूरी बनाना , हाथ धुलना , मास्क का उपयोग । लेकिन अब लोग ऐसा कुछ नहीं कर रहे सबकुछ पहले जैसा बनाने की ठान ली है क्योंकि उनको ऐसा लगता है कि वैक्सीन उनके लिए संजीवनी बूटी का काम करेगी । ये उनकी गलतफहमी भी है क्योंकि नया वेरिएंट प्रतिरक्षा तंत्र पर असर डालता है चुनौती तो यह भी दिख रही है कि नए वेरिएंट आने वाले समय में और कितने रूप बदलता है किसी महामारी को समाप्त करना एक लम्बी प्रक्रिया है और इसमें एक लम्बा समय लग सकता है ।

Leave a Comment