UP 2022: क्या योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से विधानसभा चुनाव लड़कर इतिहास दोहरा पाएंगे?

Uttar Pradesh: एक समय कहा जा रहा था कि योगी आयोध्या से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे फिर कहा गया कि योगी कृष्ण की नगरी मथुरा से पर्चा दाखिल करेंगे। मगर आखिरकार दोनों दावे ग़लत साबित हुए क्यों योगी आदित्यनाथ ने मन बना लिया है गोरखपुर से चुनाव लड़ने का। योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से चार बार सांसद रह चुके हैं। 1998 में पहली बार उन्होंने लोकसभा चुनाव में भाग्य आज़माया था और सफल साबित हुए थे। तब से अब तक उन्होंने पीछे मुड़ कर नहीं देखा है। अब सवाल यह है कि क्या इस बार भी गोरखपुर से उनका जादू चलेगा क्या उन्हें मुँह की खानी पड़ेगी?

गोरखपुर योगी आदित्यनाथ का गृह नगर है। वह गोरखपुर लोकसभा सीट से 1998 से 2017 में मुख्यमंत्री बनने तक सांसद रहें हैं। यानी गोरखपुर योगी का गढ़ है। इसलिए अनुभवहीन विपक्ष को योगी को हराना मुश्किल होगा।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश ने कसा तंज –

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से चुनाव लड़ने पर तंज कसा। उन्हें ट्वीट किया – कभी कहा मथुरा… कभी कहा अयोध्या… और अब कह रहे हैं… गोरखपुर… जनता से पहले इनकी पार्टी ने ही इनको वापस घर भेज दिया है… दरअसल इनको टिकट मिली नहीं है, इनकी वापसी की टिकट कट गयी है।

योगी का पलड़ा भारी…

विपक्षी पर यह बात मानतें हैं कि योगी आदित्यनाथ सिर्फ एक नेता नहीं हैं ब्लकि एक ब्रांड हैं। उनके चाहने वालों की तादाद में साल दर साल इज़ाफ़ा हुआ है। ऐसे में उन्हें पराजित करने के लिए ऐड़ी चोटी का ज़ोर लगाना होगा ख़ास कर तब जब वो अपने गढ़ से चुनाव लड़ रहे हों।

2017 में भाजपा ने रचा था इतिहास

2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अनोखा प्रदर्शन किया था। 403 सीटों में से बीजेपी 384 सीटों पर चुनावी मैदान में उतरी थी और शानदार प्रदर्शन करते हुए 324 सीटें हासिल की हैं। इनमें से बीजेपी ने अकेले दम पर 311 सीटें जीती हैं, जबकि अपना दल (सोनेलाल) ने 9 सीटें जीती हैं, जबकि भारतीय सुहेलदेव समाज पार्टी को 4 सीटें हासिल हुई थीं।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में सात चरणों में 10, 14, 20, 23, 27 और 3 और 7 मार्च को मतदान होगा। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी।

Leave a Comment