बहुत मुश्किल है उस इंसान को हराना जिसे ठोकरों ने चलना सिखाया हो

अश्लीलता हमारी अपनी खोज है ईश्वर की नहीं। अगर ईश्वर की खोज होती तो वह हमें कपड़े पहनाकर पैदा करता

ज्ञान प्राप्त करने के लिए तपस्या करनी पड़ती है। जो जितनी तपस्या करेगा वो उतना ज्ञानी होगा।

गौरव लक्ष्य पाने के लिए कोशिश करने में हैं न कि लक्ष्य तक पहुंचने में.

फूंक दे खुद को ज्वाला ज्वाला बिन खुद जले ना होय उजाला.

''अधिक खबरें जानने के लिए-नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें''